मछुआरे के हाथ लगी दुनिया की सबसे बूढ़ी मछली, करोड़ों साल बाद समुद्र की गहराइयों से जिंदा निकली बाहर

समुद्र की दुनिया कई रहस्यों से भरी हुई है. आए दिन समुद्र के नीचे नए-नए जीवों के मिलने की खबरें सामने आती रहती हैं. पिछले दिनों Mongabay News की एक खबर में दावा किया गया कि मेडागास्कर (Madagaskar) के समुद्र की गहराइयों से मछुआरों को दुनिया की सबसे (Duniya Ka Sabse) बूढ़ी मछली मिली है. ये मछली 42 करोड़ साल की है. साथ ही ये जिंदा भी है. मछली को अब वैज्ञानिकों ने अपने कब्जे में लेकर इसपर स्टडी करना शुरू कर दिया है.


मछली की इस प्रजाति को Coelacanth कहा जाता है. इस मछली के पैर होते हैं. अपने चार पैरों की वजह से ये मछली वैज्ञानिकों के बीच चर्चा का विषय रहती है लेकिन इसे विलुप्त मान लिया था. अब सालों बाद इस मछली को शार्क हंटर्स ने समुद्र की गहराइयों से बाहर निकाला है. इस मछली को डायनासोर के साथ ही खत्म हुआ समझ लिया गया था. लेकिन अब इतने सालों बाद मिली इस मछली ने सनसनी मचा दी.

यह भी पढ़ें  शाहरुख खान अमेरिका में बनाएंगे क्रिकेट स्टेडियम, वर्ल्ड क्लास का होगा सबकुछ

पैरों वाली है मछली
मछली की इस प्रजाति को 42 करोड़ साल पुराना बताया जा रहा है. ये समुद्र में 300 से 500 फ़ीट की गहराई में रहती है. सबसे बड़ी बात ये कि इनके पैर होते हैं. इस मछली के मिलने के बाद वैज्ञानिक अचंभित हैं. लोगों को हैरानी है कि इतने साल बाद ये मछली जिंदा कैसे मिली है? अब वैज्ञानिकों को इस बात चिंता है कि कहीं इस मछली की वजह से अन्य समुद्री जीवों को कोई समस्या ना हो?

आपकी जानकारी के लिए बता दे की मछली की इस प्रजाति को 42 करोड़ साल पुराना बताया जा रहा है. ये समुद्र में 300 से 500 फ़ीट की गहराई में रहती है. सबसे बड़ी बात ये कि इनके पैर होते हैं. इस मछली के मिलने के बाद वैज्ञानिक अचंभित हैं. लोगों को हैरानी है कि इतने साल बाद ये मछली जिंदा कैसे मिली है? अब वैज्ञानिकों को इस बात चिंता है कि कहीं इस मछली की वजह से अन्य समुद्री जीवों को कोई समस्या ना हो?

यह भी पढ़ें  यूक्रेन से बाहर निकलने के लिए पाक छात्रों ने गाया राष्ट्रगान, उठाया तिरंगा