बिहार में 4917 में से 663 KM एनएच की स्थिति बद से बद्तर, सरकार सुधारने में जुटी

बिहार में 12 फीसदी नेशनल हाइवे की स्थिति खराब ख़राब ही नहीं बल्कि बहुत खराब है | कुल 4917 किमी सड़कों में 663 किमी सड़क की स्थिति जर्जर है। इन सड़कों पर गाड़ियों का आवागमन बहुत मुश्किल है। पथ निर्माण विभाग और नेशनल हाइवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) के अधीन इन सड़कों को बेहतर करने में सरकार जुट गई है। और आशा है की जल्द से जल्द इसको सुधर करेगी |

जानकारी के अनुसार बीते दिनों बिहार में एनएच की दशा-दिशा की समीक्षा हुई थी। पथ निर्माण विभाग के अधीन 1504 किमी नेशनल हाइवे हैं। इनमें से 1434 किमी श्रेष्ठ स्थिति में हैं जो कुल सड़क का 60.23 फीसदी है। वहीं, 590 किमी सड़क ठीक-ठाक स्थिति में है, जो कुल सड़क का 24.78 फीसदी है। जबकि 357 किमी सड़क खराब स्थिति में है। यह कुल सड़क का 14.99 फीसदी है। वहीं, एनएचएआई के अधीन 2413 किमी नेशनल हाइवे है। इसमें से 1364 किमी सड़क बेहतर है, जो कुल सड़क का 56.53 फीसदी है। 743 किमी सड़क ठीक-ठाक स्थिति में है जो कुल सड़क का 30.79 फीसदी है।

यह भी पढ़ें  अगले साल तक बनकर तैयार हो जाएगा बिहार में एक और नेशनल हाईवे सफ़र होगा सुहाना

बिहार में सबसे अधिक पटना-गया रोड का है। पटना-गया में 53 किमी सड़क मीसिंग है। इसमें कुछ पर्यावरणीय स्वीकृति का भी मामला है। वहीं, पूर्णिया में नौ किमी से अधिक सड़क मीसिंग लिंक है। वहीं, लखीसराय में नौ तो बिहारशरीफ में भी नौ किमी सड़क मीसिंग लिंक में है। इसी तरह आरा-मोहनिया में आठ किमी, आरा-कोइलवर-दानापुर में 16 किमी तो अनीसाबाद-फतुहा-बख्तियारपुर में चार किमी सड़क मीसिंग लिंक में है। सड़कों की हालत सुधारने को पथ निर्माण विभाग ने प्रयास शुरू कर दिया है। 

एक नजर में

– 4917 किमी नेशनल हाइवे है बिहार में
– 2798 किमी सड़कों की स्थित है बेहतर
– 1333 किमी सड़क ठीक-ठाक स्थिति में 
– 663 किमी सड़क की स्थिति खराब 

यह भी पढ़ें  बिहारवासियों के लिए खुशखबरी! पटना की सड़कों पर अगले माह दौड़ेंगी 25 नयी एसी सीएनजी बसें