apanabihar 7 21

बिहार सरकार द्वारा महिला सशक्तिकरण को बढ़ावा देने के लिए कई योजनाये शुरू की गयी है. महिलाओं के लिए कई लान्भाकारी योजना एक बड़ी योजना में शामिल है और उस योजना का नाम है मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना . यह योजना बिहार सरकार के महिला कल्याण विभाग के अंतर्गत आता है जिसे सीएम् नीतीश कुमार ने लांच किया है. इस योजना के तहत कन्या के जन्म से लेकर उसके स्नातक करने तक प्रोत्साहन के तौर पर सरकार रूपये देती है , ताकि राज्य में बेटियों का उत्थान हो , उनका लालन पोषण अच्छे तरीके से हो साथ ही उनके प्रारंभिक से लेकर उच्च शिक्षा तक में किसी तरह की आर्थिक समस्या न आये. 

बताते चले कि इस योजना के अंतर्गत जन्म से लेकर स्नातक करने तक में विभिन्न मदों के लिए राशी मिलती है, हालाँकि जन्म के बाद शुरूआती दौर के योजना का लाभ उठाने के लिए आपको अपनी बेटी का पहले निबंधन कराना भी होता है. ऐसे में आज हम आपको शुरूआती निबंधन के प्रोसेस के बारे में इस आर्टिकल  में बताने जा रहे हैं ताकि आपकी नवजात बच्चियों को भी यह लाभ मिल सके.

यहाँ आपको सबसे पहले बता दे कि योजना के तहत कन्या के जन्म होने पर सरकार दो हजार रूपये देती है. एक साल पूरा होने और आधार पंजीयन कराने के बाद 1000 रूपये मिलते हैं. कन्या के दो साल पूरा होने पर जरुरी वैक्सीन लेने के बाद 2000 रूपये सर्कार की तरफ से मिलते हैं. इसके बाद पहली से दूसरी कक्षा में पढने के दौरान 600 रूपये पोशाक के लिए मिलते हैं. क्लास 3 से पांच तक की पढाई के दौरान पोशाक के लिए 700 रूपये प्रतिवर्ष मिलते हैं. वर्ग 6 से 8 में पढाई के दौरान पोशाक के लिए प्रतिवर्ष हजार रूपये मिलते हैं.

इसके साथ ही बच्ची को क्लास 7 से बारह्न्वी तक के दौरान किशोरी स्वास्थय योजनान्तर्गत सेनेटरी नैपकिन के लिए 300 रूपये प्रतिवर्ष मिलते हैं. साथ ही जब कन्या नौंवी में चली जाती है तो नौंवी से 12 वीं के दौरान 1,500 रूपये प्रतिवर्ष पोशाक के लिए दिए जायेंगे. इसके साथ ही इंटर पास करने के बाद अविवाहित रहने पर 25 हजार रूपये और ग्रेजुएशन पास करने पर विवाहित –अविवाहित सभी लड़कियों को पचास हजार प्रोत्साहन राशि बिहार सरकार के तरफ से दी जाती.

आपको अब कन्या उत्थान योजना के लिए बच्ची के जन्म से लेकर दो वर्ष तक की उम्र के लिए शुरूआती राशि का लाभ लेने के लिए ऑनलाइन प्रोसेस के बारे में बताते है. सबसे पहले आपको गूगल पर जाकरicdsonline.bih.nic.in पर जाकर सर्च करना होगा, इसके बाद सबसे पहली वेबसाईट आँगन को ओपेन कर ले. इसके बाद स्क्रीन पर icds की आधिकारिक वेबसाईट खुल जाएगी जो कि समाज कल्यान विभाग के अंतर्गत आता है. यहाँ से आंगनबाड़ी से जुड़े लाभ के लिए अप्लाई होता है . लेकिन इसके नीचे ही कन्या उत्थान योजना ,महिला विकास निगम की वेबसाइट को जोड़ दिया गया है. 

अब आप यहाँ ऑनलाइन भरने का प्रपत्र के ऑप्शन पर क्लिक करे. क्लिक करते ही आपके सामने नया पेज खुल कर आ जायेगा. जिसमे योजना के अंतर्गत जन्म से लेकर 2 साल तक की बच्ची के लिए आवेदन फॉर्म खुल जायेगा. इस ऑनलाइन फॉर्म में आपको जैसे जैसे पूछा जायेगा आप उसे भर दे, जैसे कि योजना को चुन ले , जिला का नाम , परियोजना अथवा प्रखंड को चुन ले , क्षेत्र के प्रकार में ग्रामीण या शहरी चुन ले , गाँव और पंचायत का नाम चुन ले. उसके बाद आपको अपना वार्ड चुन लेना है. 

इनसब को भरने के बाद ठीक नीचे आपको व्यक्तिगत जानकारी भरनी है. जैसे कि बच्ची की माता का नाम, माता का आधार नंबर , आंगनबाड़ी केंद्र कोड संख्या , शिशु का नाम , पिता का नाम आदि भर देना है, उसके बाद आपको शिशु का जन्म निबंधन संख्या भरना है जो कि जन्म लेते वक्त आंगनबाड़ी से बर्थ सर्टिफिकेट बनवाने पर आपको मिल जाता है. प्रसव की तारिख को भी वहां भरना है. इसके बाद अपनी कटेगरी चुन ले, उसके बाद माता या पिता का मोबाईल नंबर वहां दर्ज कर दे जो बैंक और आधार से लिंक होना चाहिए.

इसके बाद आपको नीचे में बैंक का विवरण भरना होगा. आपका बैंक खाता बिहार में स्थित बैंक में होना चाहिए . वहां ifsc कोड डालकर , बैंक का नाम चुन ले . आपको बता दे कि माता की मृत्यु होने की स्तिथि में बच्ची के पिता का बैंक विवरण भर सकते हैं जो कि नीचे ऑप्शन में दिया गया है.

इतना करने के बाद आपको अब कुछ दस्तावेज अपलोड करना होगा. आप jpg या pdf फॉर्मेट में 300 कब तक में बच्ची का जन्म प्रमाण पत्र अपलोड कर ले , उसके बाद माँ के साथ बच्चे की तस्वीर को jpg फॉर्मेट में 200 कब तक में अप्लोड करना होगा. इतना करने के बाद आप इसे सेव् करने के लिए मूलभूत रिकॉर्ड को सेव कर ले. अब आपका फॉर्म पूरा हो गया है. इसके पूरा होते ही आपको युजर आईडी और पासवर्ड मिल जायेगा जिसे आप फॉर्म का स्टेटस चेक करने के लिए यूज कर सकते है.

Raushan Kumar is known for his fearless and bold journalism. Along with this, Raushan Kumar is also the Editor in Chief of apanabihar.com. Who has been contributing in the field of journalism for almost 4 years.