बिहार में बाढ़ की चेतावनी, केंद्रीय जल आयोग ने जारी किया अलर्ट

मॉनसून की बारिश ने बिहार को गर्मी से राहत तो दी, मगर बाढ़ के रूप में आफत भी देने को तैयार है। बिहार के कई इलाकों में बाढ़ जैसे हालात के आसार हैं। केंद्रीय जल आयोग (सीडब्ल्यूसी) ने बुधवार को बिहार के लिए एक नारंगी बुलेटिन जारी किया, जिसमें राज्य के कुछ हिस्सों में बाढ़ की स्थिति की भविष्यवाणी की गई। बता दें कि बीते कुछ दिनों से बिहार में मॉनसून की बारिश हो रही है।

केंद्रीय जल आयोग ने बिहार में गंडक और बूढ़ी गंडक नदी के लिए ऑरेंज फ्लड बुलेटिन जारी किया है। बुधवार सुबह 8 बजे तक बिहार में गंडक और बूढ़ी गंडक नदियां अपने खतरे के निशान से ऊपर बह रही थीं। सीडब्ल्यूसी की एडवाइजरी के अनुसार, बिहार के गोपालगंज जिले के डुमरियाघाट में गंडक नदी 62.4 मीटर के स्तर पर बढ़ती हुई प्रवृत्ति के साथ बह रही थी जो कि 62.22 मीटर के खतरे के स्तर से 0.18 मीटर ऊपर और 64.36 मीटर (2020-07-24)) के अपने पिछले एचएफएल से 1.96 मीटर नीचे है।

यह भी पढ़ें  रवि किशन की बेटी 'अग्निपथ' योजना के तहत होना चाहती है सेना में भर्ती, पिता ने दिया ऐसा रिएक्शन

इसने आगे कहा कि बिहार के पश्चिम चंपारण जिले के चनपटिया में बूढ़ी गंडक नदी गंभीर स्थिति में बह रही है। दरअसल, नेपाल और गंडक नदी के जल ग्रहण क्षेत्र में पिछले 24 घंटे से हो रही भारी बारिश ने बिहार की चिंता बढ़ा दी है। नेपाल के तराई क्षेत्रों में हुई बारिश के बाद गंडक नदी के जलस्तर में काफी वृद्धि हुई है। वाल्मीकि नगर बराज से सवा तीन लाख घनसेक पानी छोड़े जाने से जल स्तर में करीब 1 मीटर की वृद्धि हुई है। सदर प्रखंड के निचले इलाकों में नदी का पानी घुसने के बाद लोग पलायन कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें  बिहार में लम्बे सफ़र करने वाले यात्रिओ को नहीं होगी परेशानी, 50 से अधिक ट्रेन का शुरू हुआ परिचालन