ISBT हो गया चालू, 13 बसों ने आदेश को दिखाया ठेंगा तो वसूला गया 34500 का जुर्माना

पाटलिपुत्रा बस टर्मिनल ISBT से बसोंं ने फरार्टा भरना शुरू कर दिया है। मंगलवार को कुल 97 बसों का आवागमन हुआ है। 57 बसें आईं और टर्मिनल से कुल 40 बसें अपने गंतव्य को रवाना हुईं। इस दौरान कई ऐसी बसें भी पकड़ में आई हैं जो आदेश को ठेंगा दिखा रही थी। प्रशासन ने कुल 13 बसों पर कार्रवाई की है। इन सभी बस चालकों से 34500 रुपया जुर्माना वसूला गया है।

बसों का किया जाएगा जब्त

मनमानी करने वाले बस चालकों पर कार्रवाई करने के बाद अब तैयारी है कि बसों को ही जब्त कर लिया जाए। कोई भी बस चालक अगर आदेश का पालन करता नहीं दिखाई पड़ा तो बस को प्रशासन जब्त कर लेगा। DM डॉ. चंद्रशेखर सिंह का कहना है कि जुलाई 2021 तक मीठापुर बस स्टैंड को ISBT में शिफ्ट किया जाना है। इसलिए चरणबद्ध तरीके से शिफ्टिंग का काम तेजी से किया जा रहा है। बुधवार से अगर कोई आदेश नहीं मानेगा, मनमानी करेगा तो बसों की जब्ती के साथ ही कठोर कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें  बिहार के इन स्टेशनों की बदल गई कीमत 400 करोड़ रुपया खर्च कर रेलवे बनाएगी वर्ल्ड क्लास देखिये ये सभी स्टेशन का नाम है शामिल

15 जून से चालू हुई बस सेवा

15 जून से नालंदा, नवादा, शेखपुरा एवं जमुई की बसों का परिचालन पाटलिपुत्रा बस टर्मिनल ISBT बैरिया से हो रहा है। द्वितीय चरण में यह सेवा चालू की गई है। द्वितीय चरण के तहत 4 जिलों के लिए बस सेवा शुरू की गई है। इसके लिए ट्रांसपोर्ट प्रतिनिधियों के साथ ISBT में बैठक पहले ही कर ली गई थी। पार्किंग व्यवस्था, काउंटर व्यवस्था, सर्विस स्टेशन, फेरी सेवा, ट्रैफिक व्यवस्था, शौचालय, पेयजल सहित यात्री सुविधाओं को तेजी से बढ़ाया जा रहा है।

प्राइवेट बसों के साथ उस जिले की बसों का संचालन

15 जून से प्राइवेट बसों के साथ उस जिले की सरकारी बसें भी ISBT से संचालित हुई हैं। सिटी बसों का परिचालन बांकीपुर बस स्टैंड से किया जा रहा है। मीठापुर बस स्टैंड से बेहतर एवं आधुनिक सुविधा ISBT में प्रदान की गई है जो यात्रियों एवं बस मालिकों के लिए हितकारी साबित हो रही है।

यह भी पढ़ें  बिहार में जारी भीषण गर्मी के बीच 19 जिलों में बारिश का अलर्ट, 44 पार हुआ औरंगाबाद का तापमान

11 एकड़ में बसों की पार्किंग

मीठापुर बस स्टैंड 8 एकड़ में है जबकि ISBT 25 एकड़ में फैला है जिसमें 10 एकड़ में भवन का निर्माण कर आवश्यक सुविधाएं मुहैया कराई गई हैं। करीब 11 एकड़ में बसों के पार्किंग की व्यवस्था है।