रातों रात बदल गया गंगा नदी के पानी का रंग, पानी हरा होने के कारणों का खुलासा, जांच रिपोर्ट तैयार

वाराणसी में गंगा का पानी हरा होने के कारण का खुलासा हो गया है। पहले से ही बताया जा रहा था कि शैवाल के कारण गंगा का पानी हरा हो रहा है। लेकिन यह शैवाल अचानक कहां से आ रहा है, इसे लेकर मंथन हो रहा था। डीएम की ओर से बनी टीम ने जांच की तो पता चला कि विंध्याचल के एसटीपी से शैवाल बहकर आ रहे हैं। पांच सदस्यीय जांच कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में इसका खुलासा किया है। टीम ने रिपोर्ट तैयार कर ली है। शुक्रवार को जिलाधिकारी को सौंपने की बात कही जा रही है।

बता दें कि गंगा नदी में हरे शैवाल की मात्रा अचानक बढ़ गई थी। घटना के बाद काशीवासियों सहित वैज्ञानिकों के माथे पर चिंता की लकीरें बढ़ गई थीं। पिछली बार भी मिर्जापुर के पास से लोहिया नदी से ये शैवाल गंगा में आए थे। शैवालों के कारण गंगा का इकोसिस्टम पर संकट खड़ा हो गया है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की प्राथमिक जांच में भी यह बात सामने आई थी कि गंगाजल में नाइट्रोजन और फास्फोरस की मात्रा निर्धारित मानकों से ज्यादा हो गई है।

यह भी पढ़ें  Sahara India : जल्द मिलेगा डूबा हुआ पैसा वापस, जानिए क्या हुआ

बीएचयू में इंस्टीट्यूट ऑफ एनवायरमेंट एंड सस्टेनेबल डेवलपमेंट के वैज्ञानिक डॉ कृपाराम ने बताया था कि जल में युट्रोफिकेशन प्रक्रिया होने से एल्गी ब्लूम (हरे शैवाल) बनते हैं। ऐसा तब होता है जब जल में न्यूट्रिएंट काफी बढ़ जाते हैं। इस कारण गैर जरूरी स्वस्थ जीवों की संख्या में अप्रत्याशित रूप से वृद्धि होती है। ऐसे में शैवालों को प्रकाश संश्लेषण करने का सबसे उपयुक्त वातावरण मिलता है। तब पानी में ऑक्सीजन कम होने लगता है, जिससे बायोकेमिकल ऑक्सीजन डिमांड (बीओडी) सबसे पहले प्रभावित होती है।

मिर्जापुर एसटीपी के अधिकारी के खिलाफ कार्यवाही के लिए शासन से की संस्तुति
गंगा नदी में हरे शैवाल पाये जाने के सम्बन्ध में जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा द्वारा गठित 05 सदस्यीय समिति के सदस्यों द्वारा दिनांक 08, 09 एवं 10 जून तक वाराणसी से मिर्जापुर (विन्ध्याचल अप स्ट्रीम) गंगा नदी के उद्गम, स्रोत और गंगा घाटों तक जाकर शैवाल के कारणों की जांच कर संयुक्त आख्या उन्हें सौप दी गई।

यह भी पढ़ें  सरिया एक महीने में 9 हजार रुपये प्रति टन सस्ता, जानिए क्या है आज का रेट