सुबह को अंडा बेचता था और पूरी रात पढ़ाई करता था अंडा बेचने वाला ने कैसे BPSC निकला कर अफसर बना जानिए

अब तक आपने कई ऐसे बीपीएससी परीक्षा पास करने की जुनूनी कहानी पढ़ चुके होंगे लेकिन यह कहानी सबसे हटकर है यह कहानी एक ऐसे शख्स का है जो गरीबी से निकलकर आज अफसर बन चुका है एक ऐसा शख्स जो कल तक अंडा बेचा करता था वह आज अफसर बन गया है यह शख्स कल तक अंडा बेच कर घर का खर्च उठाया था ।

आज उसने बीपीएससी की परीक्षा पास कर ली है औरंगाबाद के कर्मा रोड स्थित इस छोटी से गुमटी में बैठकर बिरेंद्र ने जो कर दिखाया है उस पर प्रशंसा में जितने शब्द लिखो जाए जितनी तारीफ की जाए कम है आपको बता दु की वीरेंद्र औरंगाबाद जिले के बारुण प्रखंड के एक छोटे से गांव हाथीखफा का रहने वाला है वाला है और अब उन्होंने इसी छोटे से व्यापार को चलाकर और अपने घर का पालन पोषण कर के और आज वह अफसर बन चुके हैं इनकी तारीफ पूरे गांव और उनके जिला में हो रही है।

यह भी पढ़ें  बिहार के इस जिले में 5000 करोड़ की लागत से शुरू हुआ इकोनॉमिकल कॉरिडोर का निर्माण

पिता की मौत के बाद भी नहीं छोड़ी बीपीएससी की तैयारी वीरेंद्र के मुताबिक उनके पिता भिखारी राम जूता सीकर अपने तीन बच्चों का परवरिश किया लेकिन अफ़सोस साल 2012 में वह नही रहे जिसके बाद परिवार पर मानो दुख और जिम्मेदारियों का पहाड़ टूट गया लेकिन बिरेंद्र ने मुश्किल समय में ही है ठान लिया कि वह बीपीएससी की परीक्षा की तैयारी करेगा परिवार की आर्थिक स्थिति को देखते हुए वीरेंद्र सुबह अंडे की गुमटी लगाता है और पूरी रात पढ़ाई करता धीरे-धीरे घर की आर्थिक स्थिति कुछ ठीक हुई तो बड़े भाई में बैठा एक छोटा सा दुकान खोला और छोटे भाई बिरेंद्र को फुल टाइम पढ़ाई करने की छूट दे दी बड़े भाई ने घर की पूरी जिम्मेदारी अपने कंधे पर उठा ली ताकि छोटा भाई अपने सपने को साकार कर सकें और आज वह बीपीएसी पास कर के अधिकारी बन चुके है।

यह भी पढ़ें  NDA में जारी रार व नीतीश-तेजस्वी की नजदीकियों के बीच लालू पहुंचे पटना, बड़ा सवाल- क्या ‘खेला’ होगा?