Dwarka Expressway Update : भारत के शहरी क्षेत्रो में बढ़ती जनसंख्या और विकास की जरूरत ने नए इंफ्रास्ट्रक्चर पर प्राथमिकता दी है, और इसी क्रम में द्वारका एक्सप्रेसवे (Dwarka Expressway) गुरुग्राम, हरियाणा के नए विकास का एक महत्वपूर्ण कदम है। यह प्रोजेक्ट नोर्थ-वेस्ट गुरुग्राम को दिल्ली से जोड़ने का उद्देश्य रखता है और एक पुराने शहरी सपने को हकीकत में बदलने की कोशिश कर रहा है। Dwarka Expressway का काम जोर-शोर से चल रहा है.

द्वारका एक्सप्रेसवे, भारत के सबसे शानदार एलिवेटेड एक्सप्रेसवे में से एक है, जो एनएच-8 और सेक्टर 21, गुरुग्राम, से शांति विहार, दिल्ली तक 29 किलोमीटर लंबा है। जिसमे 19 किलोमीटर का हिस्सा हरियाणा में पड़ता है | वहीं, दिल्ली के हिस्से में 10 किलोमीटर आता है. दिल्ली वाले में काम काफी धीमे-धीमे चल रहा है |

Also read: बिना जहीर इकबाल के हनीमून राउंड 2 पर पहुंचीं Sonakshi Sinha, बोली…

Also read: ‘उलझ’ के ट्रेलर लॉन्च इवेंट में गजब लुक में पहुंचीं जाह्नवी कपूर, देखें तस्वीरें
Dwarka Expressway Update
Dwarka Expressway Update

इस परियोजना को विकसित करने का प्रमुख उद्देश्य गुरुग्राम के विकास को प्रोत्साहित करना है. इस द्वारका एक्सप्रेसवे में कुल 8-लेन सुरंग बनाया जायेगा. जहाँ एक तरफ 23 किलोमीटर का हिस्सा जमीन से ऊपर एलिवेटेड होगा. वही दूसरी तरफ 3.6 किमी की सुरंग बनाई गई है. इसको बनाने में कुल 9000 करोड़ की लगत आई है. यह दारका एक्सप्रेसवे कुल 8 लें में बनाया जा रहा है.

इस एक्सप्रेसवे के विकास से लाभान्वित होने वाले विभिन्न सेक्टरों में निवेशकों को नई संभावनाएं मिल रही हैं। गुरुग्राम और दिल्ली के बीच समय और दूरी में होने वाली है. यह द्वारका एक्सप्रेसवे इंतना आधुनिक और शानदार बनाया गया है की इसमें 3-3 सर्विस लेन बनाई गई है. आमतौर पर सर्विस लेन एक ही लेन की होती है. ऐसा देखा जा रहा है की अब तब 99% का काम पूरा हो चूका है.

द्वारका एक्सप्रेसवे को बनाने में 20 लाख क्यूबिक मीटर कंक्रीट का उपयोग किया गया है. जो की दुनिया की सबसे बड़ी ईमारत बुर्ज खलीफा से 6 गुना ज्यादा है. द्वारका एक्सप्रेसवे का विकास एक महत्वपूर्ण परियोजना है जो दिल्ली और गुरुग्राम के बीच और अन्य शहरों के संबंधों को सुविधाजनक बनाने का लक्ष्य रखती है। इस परियोजना से समर्थन मिलने के बाद, यह विकास का सपना हकीकत में बदल सकता है और भारतीय अर्थव्यवस्था को और अधिक समृद्ध बना सकता है।