बिहार के गया, कैमूर, रोहतास और जहानाबाद जिले में बनेगा रोप-वे, जानिए कब शुरू होगी

बिहार राज्य पर्यटन विभाग लगातार टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए नई-नई योजना बना रही है. बिहार के राजगीर और बांका में पहले से ही रोप-वे कार्यरत है. अब राज्य में दो और पर्यटन स्थल पर रोप-वे लगाने का काम शुरू होने वाला है. ये रोप-वे गया जिले में लगने वाले है. इसके लिए सभी तरह की डिजाइन, आपूर्ति, इंस्टालेशन, टेस्टिंग और संचालन का काम पूरा कर लिया गया है. उम्मीद यही जताई जा रही है की अक्टूबर माह में इस काम भी शुर कर दिया जायेगा.

बिहार में गया जिले में पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए डुंगेश्वरी और ब्रह्मयोनि के पहाड़ी पर रोप-वे का निर्माण किया जा रहा है. डुंगेश्वरी और ब्रह्मयोनि पहाड़ी वाला रोप वे बिहार का क्रमशः तीसरा और चौथा रोप-वे होगा. गया जिले के इस रोप-वे के निर्माण में लगभग 22 करोड़ रूपये खर्च होंगे. सम्बंधित विभाग निर्माण एजेंसी की पड़ताल शुरू कर दी है. इसके लिए टेंडर निकाला जायेगा.

बता दें की गया जिले के डुंगेश्वरी रोप-वे को बनाने में लगभग 14.87 करोड़ रूपये खर्च होंगे. वहीँ ब्रह्मयोनि वाला रोप-वे को बनाने में लगभग 7.54 करोड़ रूपये का खर्च आएगा. इसके लिए टेंडर की प्रक्रिया शुरू कर दी गई. सितम्बर का 22 तारीख अंतिम तिथि तय की गई है. अगर सब कुछ प्लान के मुताबिक रहा तो अक्टूबर महीने से दोनों रोप-वे का कार्य आरम्भ कर दिया जयेगा.

बिहार के गया जिले के डुंगेश्वरी पर्वत बनने वाले रोप-वे में दो सेक्शन होंगे. जिसका फर्स्ट पार्ट बस स्टैंड से आरम्भ होगा फिर ये डुंगेश्वरी माता मंदिर तक चलेगी. इस रोप-वे में कुल 6 केबिन होंगे. प्रत्येक कक्ष में 6:6 सैलानीयों को बैठने का मौका मिलेगा. यहाँ पर लगभग 5 से 6 मिनट में पंहुचा दिया जायेगा. यही से कुछ दुरी पर रोप-वे का दूसरा पार्ट शुर होगा. यह डुंगेश्वरी पहाड़ी के पास स्तूप तक जाएगा. इसमे भी करीब 6 से 7 मिनट का वक़्त लगेगा.

बिहार राज्य पर्यटक विभाग राज्य में 6 और नए रोप-वे का प्लान बना रही है. जिसमे गया जिला, कैमूर जिला, रोहतास जिला, जहानाबाद जिला आदि शामिल है. यह रोप-वे जहानाबाद में वाणावर पर्वत पर बनेगा, कैमूर में मुंडेश्वरी पर्वत पर बनेगा और रोहतास में रोहतासगढ़ किला पर बनेगा.