इस तरह करें पैसे का प्रबंधन कि बचत के साथ कर्ज के जाल से भी हों फ्री, जानें काम की Tricks

आम इंसान के लिए आने वाला समय अनिश्चितताओं से भरा है। अपने आर्थिक लक्ष्‍य तय करना किसी भी इंसान के जीवन का महत्‍वपूर्ण हिस्‍सा होता है। इंवेस्‍टमेंट प्रोफेशनल्‍स लोगों को सोच-समझ कर आर्थिक लक्ष्‍य तय करने की सलाह देते हैं जिसे सिर्फ अपने पर्सनल फाइनेंस के प्रभावी प्रबंधन से ही प्राप्‍त किया जा सकता है। आज इस खबर में हम आपको घर चलाने और पैसे के प्रबंधन की कुछ ऐसी ट्रिक्स बता रहे हैं जो आपके बेहद काम आएंगी.

अपने घर का बजट हर महीने बनाएंः आपको बता दे की अपने घर का मासिक बजट जरूर बनाएं और उसमें सभी खर्चों को शामिल करें. चाहे वह बाहर लंच या डिनर करने से जुड़ा हो या शॉपिंग से जुड़ा हो. जरूरत के लिए 50 फीसदी रखें, इमरजेंसी के लिए 30 फीसदी बचाएं और भविष्य के लिए 20 फीसदी पैसा बचाएं.

यह भी पढ़ें  छोटे निवेश में चाहते हैं 10 गुना तक का मुनाफा तो शुरू करें ये बिजनेस, होगी हजारों की कमाई

घर में हर पेमेंट की उचित ट्रैकिंग रखेंः खास बात यह है की बिजली बिल, खाने का बिल, फोन, टेलीफोन बिल, रसोई की ग्रॉसरी, घर का अन्य सामान आदि सभी मदों में जो भी खर्च या पेमेंट हो रहा है, उसकी ट्रैकिंग रखें. किसी भी खर्च को बिना नोट किए ना जाने दें. आप देखेंगे कि आपके पास अपनी सैलरी में से कितना फालतू खर्च आप कर रहे हैं जिसे बचा सकते हैं.

बचत को अपने जीवन का हिस्सा बनाएंः जानकारों की माने तो जितना भी खर्च करें, संभलकर करें. अगर ऑनलाइन सब्जियां-फल-दूध मंगाना सस्ता पड़ रहा है तो मंगाएं लेकिन ऐसा न होने पर अपने आसपास ही खरीदारी करें. हर खरीदारी पर मैक्सिमम जितनी बचत कर सकते हैं वो करें. सैलरीड क्लास के लिए बचत की आदत को अपनाना बेहद जरूरी है वर्ना वो कर्ज के जाल में फंस सकता है.

यह भी पढ़ें  सरकारी सहायता से शुरू करें बांस की खेती, कुछ ही सालों में मेहनत से बन जाएंगे मालामाल

क्रेडिट कार्ड से खरीदारी सीमित करेंः बता दे की क्रेडिट कार्ड होने का अर्थ ये नहीं है कि आप अनापशनाप, बिना जरूरत का सामन खरीदते रहें. इसे इमरजेंसी के उपयोग के लिए रखें और बेहद जरूरत होने पर ही इस्तेमाल करें. याद रखें क्रेडिट मिलने का अर्थ ये नहीं कि आप जमकर खरीदारी करें और वो भी बिना जरूरत की. आखिरकार इस पैसे को आपको ही चुकाना है.