2 लाख रुपये में शुरू करें यह कारोबार, सालभर में होगी करोड़ों की कमाई, केंद्र और राज्‍य सरकार भी करेगी मदद

अगर आप कारोबार करने की सोच रहे हैं तो आज हम आपको एक खास बिजनेस आइडिया (Profitable business idea) के बारे में बताने जा रहे हैं. इससे आप सालभर में ही करोड़ों का मुनाफा (earn money) कमा सकते हैं. अगर आपके पास अपनी जमीन है और आप कम निवेश में कारोबार शुरू (Starting own Business) करना चाहते हैं. बता दे की हाल के दिनों में देश में राख से बनी ईंटों (Fly ash bricks) का चलन बढ़ा है। घर से लेकर सड़क और नालियां बनाने तक में इसका उपयोग धड़ल्ले से होने लगा है। अगर आपके पास ईंट रखने की जगह हैं और कम पैसे लगाकार अधिक मुनाफा कमाना चाहते हैं तो राख से ईंट बनाने का बिजनेस शुरू कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें  LIC की महिलाओं के लिए विशेष बीमा योजना, सिर्फ 29 रोज जमा करने पर लाखों रुपए का फायदा

जानकारी के अनुसार इसके लिए आपको 100 गज जमीन और कम से कम 2 लाख रुपये का निवेश करना होगा. इससे आप हर महीने 1 लाख रुपये और ज्‍यादा मांग होने पर सालाना करोड़ों की कमाई कर सकते हैं. तेजी से हो रहे शहरीकरण (Urbanization) के दौर में बिल्डर्स फ्लाई ऐश (Fly Ash Business) से बने ईंटों का ही इस्तेमाल कर रहे हैं. राख की ईंट को लोग सीमेंट की ईंट भी कहते हैं। बता दे की इस बिजनेस को 2 लाख रुपये लगाकर भी शुरू किया जा सकता है। जो लोग इस बिजनेस से जुड़े हैं, उनका कहना है कि दो लाख रुपये से यह बिजनेस शुरू करके साल में 12 से 15 लाख रुपये तक कमाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें  सरसों तेल ग्राहकों की बल्ले-बल्ले, कीमतों में आई गिरावट, जानिए ताजा भाव

ऑटोमेटिक मशीन से बढ़ जाते हैं मौके : आपको बता दे की इस कारोबार में ऑटोमेटिक मशीन का इस्तेमाल कमाई के मौके को बढ़ाता है. हालांकि, इस ऑटोमेटिक मशीन की कीमत 10 से 12 लाख रुपये तक है. कच्चे माल के मिश्रण से लेकर ईंट बनाने तक काम मशीन के जरिए ही होता है. ऑटोमेटिक मशीन के जरिए एक घंटे में एक हजार ईंटों को बनाया जा सकता है, यानी इस मशीन की मदद से आप महीने में तीन से चार लाख ईंटें बना सकते हैं.

केंद्र और राज्‍य सरकारें दे सकती हैं लोन : जानकारी के लिए बता दे की इस कारोबार को बैंक से लोन लेकर भी शुरू किया जा सकता है. प्रधानमंत्री रोजगार योजना और मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार के जरिए भी इस कारोबार के लिए लोन लिया जा सकता है. इसके अलावा मुद्रा लोन का भी विकल्प उपलब्ध है. उत्तराखंड और हिमांचल प्रदेश जैसे राज्यों में मिट्टी की कमी के कारण ईंटो का उत्पादन नहीं होता.

यह भी पढ़ें  सरकारी सहायता से शुरू करें बांस की खेती, कुछ ही सालों में मेहनत से बन जाएंगे मालामाल