‘काई पो चे’ से ‘छिछोरे’ तक इन 5 फिल्मों से ही सुशांत सिंह राजपूत ने जीत लिया था फैंस का दिल, इस सीरियल से की थी एक्टिंग की शुरुआत

बॉलीवुड के दिवंगत एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की 14 जून यानी आज पहली पुण्यतिथि है। आज का दिन है जब सुशांत सिंह राजपूत ने इस दुनिया का हमेशा हमेशा के लिए अलविदा कह दिया था। इस मौके पर उनका पूरा परिवार, संगी-साथी और फैंस काफी भावुक हैं। सुशांत का परिवार और उनके फैंस उनके अचानक और दुर्भाग्यपूर्ण क्षति से जूझ रहे हैं। बता दें कि बीते साल अभिनेता ने इसी महीने की 14 तारीख को इस दुनिया को हमेशा के लिए अलविदा कह दिया था।

TV सीरियल से बॉलीवुड का सफर-

फिल्म इंडस्ट्री के युवा और हैंडसम एक्टर सुशांत सिंह राजपूत ने अपने करियर में बहुत कम समय में ही बहुत बड़ी बड़ी कामयाबी हासिल कर ली थी। सुशांत सिंह राजपूत ने अपने करियर की शुरूआत साल 2008 में टीवी की दुनिया से सीरियल ‘किस देश में है मेरा दिल’ से की थी। इस सीरियल में सुशांत को प्रीत सिंह जुनेजा के किरदार देखा गया लेकिन उन्हें कुछ खास पहचान नहीं मिल पाई थी। जिसके बाद सुशांस सिंह राजपूत को साल 2009 में एकता कपूर के सीरियल ‘पवित्र रिश्ता’ में बड़ा ब्रेक मिला और देखते ही देखते सुशांत सिंह लोगों के दिलों में मानव बनकर बस गए।

यह भी पढ़ें  बिहार के दिव्यांगों को मुफ्त मिलेगी ई-ट्राइसाइकिल, 42 करोड़ राशि की मिली मंजूरी

एकता कपूर के शो से हुए हिट-

एकता कपूर के इस सीरियल से सुशांत सिंह राजपूत की किस्मत ने ऐसी पलटी मारी कि वो घर-घर में पहचाने जाने लगे। वहीं अपनी शानदार एक्टिंग और मेहनत के बल पर सुशांत सिंह ने बॉलीवुड में भी अपनी किस्मत आजमाई और फिल्म इंडस्ट्री का एक जाना माना चेहरा बन गए। बता दें कि सुशांत सिंह राजपूत ने फिल्म ‘काय पो चे’ से बॉलीवुड में पहला डेब्यू किया और उनकी एक्टिंग के लोग कायल हो गए। चलिए आपको सुशांत की उन पांच फिल्मों के बारे में बताते हैं जिनमें सुशांत ने अलग अलग किरदारों से लोगों का दिल जीता था।

काय पो चे (2013)

सुशांत सिंह राजपूत ने साल 2013 में ‘काय पो चे’ से फिल्मी करियर की शुरूआत की थी। तीन युवाओं को केंद्र में रखकर बनाई गई इस फिल्म में ईशान के रूप में सुशांत का किरदार खेलों में रुझान रखने वाले एक युवा का है। इस फिल्म में राजकुमार राव भी साथ थे और ये फिल्म चेतन भगत की किताब ‘The 3 Mistakes of My Life’ पर आधारित थी। वहीं इस फिल्म के लिए सुशांत को फिल्मफेयर बेस्ट डेब्यू के लिए नॉमिनेट भी किया गया था।

यह भी पढ़ें  बिहार की राजधानी में अगले सप्ताह से दौड़ने लगेंगी 50 निजी CNG बसें, किराये में नहीं होगा कोई बदलाव

शुद्ध देसी रोमांस (2013)

वहीं ‘काय पो चे’ के बाद सुशांत सिंह राजपूत को फिल्म शुद्ध देसी रोमांस में देखा गया। इस फिल्म में सुशांत ने एक्ट्रेस वाणी कपूर और परिणीति चोपड़ा के साथ रोमांटिक व्यक्ति के किरदार में काम किया। अक्सर जहां पर्दे पर स्टार्स को जिन सीन्स के लिए झिझक होती हैं उनको सुशांत ने बेधड़क निभाया। इस देसी रोमांटिक कहानी में रघु के किरदार में सुशांत को युवाओं ने बहुत पसंद किया।

एमएस धोनी : द अनटोल्ड स्टोरी (2016)

पहली दो फिल्मों में सुशांत सिंह राजपूत अपनी शानदार एक्टिंग से लोगों के दिलों में पहचान बना चुके थे। लेकिन जब वो साल 2016 में भारतीय क्रिकेट टीम के सफल कैप्टन महेंद्र सिंह धोनी की बायोपिक में धोनी बनकर पर्दे पर उतरे तो लोग हैरान रह गए। यह फिल्म सुशांत सिंह राजपूत के करियर की सबसे बड़ी हिट फिल्म है। महेंद्र धोनी के किरदार में सुशांत ने इस फिल्म में बेहतरीन एक्टिंग से लोगों को दिल जीत लिया। खास बात यह भी थी कि बिहार में ही पैदा हुए सुशांत को इस फिल्म में उसी बोली के साथ काम करने का मौका मिला और उन्होंने इस किरदार में ढलकर उम्दा प्रदर्शन किया।

यह भी पढ़ें  जयमाला की स्टेज पर ही दुल्हन पर टूट पड़ा दूल्हा और जमकर हुई हाथापाई, फिर ससुराल वालों ने जमाई राजा का बनाया ऐसा हाल..

केदारनाथ (2018)

साल 2018 में सुशांत सिंह राजपूत को प्राकृतिक आपदा को केंद्र में रखकर बनाई फिल्म केदारनाथ में काम करने का मौका मिला। फिल्म में सुशांत सिंह राजपूत शुद्ध भाव से तीर्थ यात्रियों की सेवा करने वाले एक मुस्लिम युवक मंसूर खान के रूप में नजर आए। मंसूर एक साहसी, ईमानदार और चरित्र का साफ शख्स है, जो आपदा आने पर बिना भेदभाव के सभी की मदद करता है। वहीं फिल्म में सुशांत के साथ एक्ट्रेस सारा अली खान ने बॉलीवुड डेब्यू किया था।

छिछोरे (2019)

साल 2019 में रिलीज हुई फिल्म छिछोरे सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म थी। जिसमें सुशांत अपने पांच दोस्तों के साथ मिलकर अन्नी के रूप में सुशांत अपने बेटे को एक सबक सिखाने के लिए पूरी फिल्म की कहानी रचते हैं। अपने स्कूल और कॉलेज के दिनों का उदाहरण देकर अन्नी अपने बच्चे को बताता है कि जिंदगी में असफल होने के बाद भी बहुत कुछ होता है। ये उनके करियर की दूसरी सबसे बड़ी फिल्म थी और इसे नेशनल अवॉर्ड भी मिला।