apanabihar.com1 51

अपने खर्चों और वित्तीय जरूरतों को सही से चलाने के लिए बचत करना बेहद जरूरी होता है। बचत करने से भविष्य में आकष्मिक जरूरतों को पूरी करने में काफी आसानी होती है. लेकिन इन अभी चीजो के बीच सहारा इंड‍िया (Sahara India) में लाखों लोगों के पैसे फंसे हुए हैं. बता दे की सहारा ग्रुप ऑफ कंपनीज (Sahara Group of Companies) के संस्थापक सुब्रतो राय (Subrato Rai) को पटना हाई कोर्ट (Patna High Court) ने अगली सुनवाई में स्वयं कोर्ट में उपस्थित होने का निर्देश दिया है.

बताते चले की बुधवार को सुनवाई के दौरान सहारा का पक्ष रखने वाले वरीय अधिवक्ता उमेश प्रसाद सिंह ने कोर्ट को बताया कि सहारा ने ग्राहकों को पैसा लौटाने के लिए कई विकल्प तैयार किए हैं. कोर्ट ने उनकी दलीलों को सुनने के बाद नामंजूर कर दिया और सुब्रतो राय को सशरीर हाजिर होने का आदेश दे दिया.

Also read: ₹3000 तक बढ़ा सोने-चांदी का भाव, जाने आपके शहर में क्या है रेट

Also read: यात्रीगण ध्‍यान दें, रद्द हुई बिहार की दर्जन भर ट्रेनें, देखें लिस्ट

सहारा के रवैये पर हाई कोर्ट ने जताई नाराजगी : आपको बता दे की पटना हाई कोर्ट ने सहारा इंडिया के प्रमुख सुब्रतो राय को हाजिर होने के लिए 11 मई की तारीख दी है. वहीं दूसरी ओर न्यायाधीश संदीप कुमार की एकलपीठ ने सहारा के रवैये पर नाराजगी भी जताई. बता दें कि कोर्ट ने पिछली सुनवाई पर यह जानकारी मांगी थी कि सहारा इंडिया कंपनी बताए कि वह बिहार के निवेशकों का पूरा पैसा कब तक और किस तरह से देगी.

27 अप्रैल तक मांगा गया था जवाब : आपको मालूम होगा की पिछली बार जब इस मामले में पटना हाई कोर्ट में सुनवाई हुई थी तो 27 अप्रैल तक स्पष्ट रूप से जवाब मांगा गया था. कल बुधवार को जब कोर्ट में फिर सुनवाई हुई तो सहारा इंडिया का पक्ष रखने वाले वरीय अधिवक्ता की दलीलों से संतुष्ट नहीं होने के बाद कोर्ट ने यह आदेश दिया है. पिछली बार कोर्ट ने सीधे कहा था कि 27 अप्रैल तक कंपनी यह बताए कि जनता का पैसा कब तक लौटाया जाएगा जो कंपनी की विभिन्न स्कीमों में उपभोक्ताओं द्वारा जमा किया गया है.

Raushan Kumar is known for his fearless and bold journalism. Along with this, Raushan Kumar is also the Editor in Chief of apanabihar.com. Who has been contributing in the field of journalism for almost 4 years.