apanabihar.com3 11

अपने खर्चों और वित्तीय जरूरतों को सही से चलाने के लिए बचत करना बेहद जरूरी होता है। बचत करने से भविष्य में आकष्मिक जरूरतों को पूरी करने में काफी आसानी होती है। लेकिन अगर आपका या आपके क‍िसी पर‍िच‍ित का पैसा सहारा इंडयिा में फंसा है तो यह खबर आपके लिए बहुत जरूरी है. केन्द्र की मोदी सरकार की तरफ से सोमवार को संसद में जानकारी दी गई क‍ि न‍िवेशकों को पैसा कब वापस म‍िलेगा?

सेबी 138.07 करोड़ ही वापस कर पाया : आपको बता दे की केन्द्र की मोदी सरकार ने संसद में बताया क‍ि सेबी (SEBI) सहारा के न‍िवेशकों को अब तक ब्‍याज समेत कुल 138.07 करोड़ रुपये ही वापस कर पाया है. एक सवाल का जवाब देते हुए वित्त राज्य मंत्री पंकज चौधरी (Pankaj Choudhary) ने सोमवार को बताया कि सहारा इंडिया रियल एस्टेट कॉर्पोरेशन लिमिटेड (SIRECL) ने 232.85 लाख निवेशकों से 19400.87 करोड़ रुपये और सहारा हाउसिंग इन्वेस्टमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड ने 75.14 लाख निवेशकों से 6380.50 करोड़ रुपये एकत्र‍ित किए.

Also read: छपरा-सूरत के बीच चलेगी विशेष ट्रेन, जाने रुट व टाइमिंग

Also read: दिल्ली से बिहार आने वाली कई ट्रेने रद्द, सफर से पहले देखें लिस्ट

खाते में 15,503.69 करोड़ रुपये जमा किए : मीडिया रिपोर्ट की माने तो उच्‍चतम न्‍यायाल के 31 अगस्त 2012 के आदेश और उसके बाद के आदेशों के अनुसार, सहारा इंडिया ने निवेशकों से जमा की गई 25,781.37 करोड़ की मूल राशि के मुकाबले 31 दिसंबर, 2021 तक ‘सेबी-सहारा रिफंड’ खाते में 15,503.69 करोड़ रुपये जमा किए हैं.

कुल 19,644 आवेदन प्राप्त हुए : खास बात यह है की वित्त राज्यमंत्री ने कहा सेबी को 81.70 करोड़ रुपये की कुल मूल राशि के लिए 53,642 ओरिजिनल बॉन्ड सर्टिफिकेट / पास बुक से जुड़े 19,644 आवेदन प्राप्त हुए हैं. इनमें से सेबी ने 138.07 करोड़ रुपये की कुल राशि 48,326 ओरिजिनल बॉन्ड सर्टिफिकेट / पासबुक वाले 17,526 एलिजिबल बॉन्डहोल्डर्स को रिफंड किया है.

डाटा ट्रेस नहीं हो पा रहा : जानकारों की माने तो केन्द्र की मोदी सरकार ने कहा की बाकी शेष आवेदन या तो SIRECL और SHICL द्वारा उपलब्ध कराये गए दस्तावेजों और डाटा में उनका रिकॉर्ड ट्रेस नहीं हो पाने के कारण या सेबी द्वारा पूछे गए प्रश्नों को लेकर बांडहोल्डर्स से कोई प्रतिक्रिया प्राप्त नहीं होने के कारण बंद कर दिए गए.

Raushan Kumar is known for his fearless and bold journalism. Along with this, Raushan Kumar is also the Editor in Chief of apanabihar.com. Who has been contributing in the field of journalism for almost 4 years.